परियोजना का उद्देश्य

अंतिम नवीनीकृत: 16/11/2012

 

  • • लघु सिंचाई सुविधाओं व फार्म संपर्क मार्गों का विकास व पुनःनिर्माण द्वारा हिमाचल प्रदेश में स्थायी फसल विविधीकरण को बढ़ावा देना |
  • • नकदी फसल की खेती में विविधीकरण के द्वारा प्रति इकाई क्षेत्र प्रति इकाई समय आय में वृद्धि |
  • • जैविक खेती को बढ़ावा देने और प्रदेश के छोटे और सीमांत किसानों की समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए कृषि क्षेत्र का सतत विकास |
  • • बे मौसमी सब्जियां उगने में सक्षम मौजूदा तुलनात्मक जलवायु का लाभ उठाना |
  • • कृषक समुदाय का फसल आधारित सामूहिक खेती और विपणन के आधार पर संगठन |
  • • कृषक समुदाय का नयी प्रद्योगिकी अपनाने व सिंचाई योजनाओं के सञ्चालन व रखरखाव के बारे में ज्ञान व कौशल को बढ़ाना ।
  • • मानव संसाधन विकास और क्षमता निर्माण |