परियोजना स्कोप

अंतिम नवीनीकृत: 16/11/2012

मद कार्य विवरण
बुनियादी ढांचा घटक

1)लघु सिंचाई प्रणालियों का विकास और सुधार

नव विकास क्रमांक. सीसीए
प्रवाह सिंचाई प्रणाली
उठाऊ सिंचाई प्रणाली
गहरे  नलकूप
उथले नलकूप  
उप योग
78 स्थल
44 स्थल
29 स्थल
21 स्थल
172 स्थल
1,363 हेक्टेयर
733 हेक्टेयर
427 हेक्टेयर
293 हेक्टेयर
2,816 हेक्टेयर
सुधार क्रमांक. सीसीए
प्रवाह सिंचाई प्रणाली
लिफ्ट सिंचाई प्रणाली
उप -योग
11 स्थल
27 स्थल
38 स्थल
513 हेक्टेयर
383 हेक्टेयर
896 हेक्टेयर
कुल 210 स्थल 3,712 हेक्टेयर

[जिला - वार उप परियोजना सूची]
बिलासपुर
हमीरपुर
कांगड़ा
मंडी
ऊना
18 स्थल
39 स्थल
56 स्थल
54 स्थल
43 स्थल
313 हेक्टेयर
532 हेक्टेयर
1,352 हेक्टेयर
984 हेक्टेयर
531 हेक्टेयर
  210 स्थल 3,712 हेक्टेयर

2) खेत संपर्क मार्गों का विकास और सुधार

बिलासपुर
हमीरपुर
कांगड़ा
मंडी
ऊना
11 स्थल
32 स्थल
29 स्थल
36 स्थल
39 स्थल
6.9 कि.मी.
18.5 कि.मी.
22.8 कि.मी.
28.1 कि.मी.
23.7 कि.मी.
  147 स्थल 100.0 कि.मी.
किसान समर्थन घटक 1) किसान समूहों का गठन 
2) सब्ज़ी उत्पादन प्रोत्साहन प्रशिक्षण 
- ओरिएंटेशन और आवश्यकता आंकलन
- फार्म आर्थिक प्रबंधन प्रशिक्षण
- सब्जी की खेती का परिचय (प्रारम्भ करने वालों के लिए)
-  फसल पैटर्न व्यवस्था (बाजार मूल्य, मौसम के आधार पर समाधान)
- अगली पीढ़ी के लिए कार्यक्रम
3) अनाज उत्पादकता प्रशिक्षण
- बीज का चयन ,उपचार और बिजाई व रोपाई
- खाद एवं उर्वरक का उपयोग
- फसल काटना कटाई के बाद 
4) फसल के बाद की प्रौद्योगिकी का प्रसार
- लघु कृषि प्रसंस्करण
- सार्वजनिक - निजी भागीदारी
संस्थागत विकास का घटक 1) डी ओ ऐ का सुदृढ़ीकरण
- पीएमयू की स्थापना
- पीएमयू स्टाफ की पी डी सी ए चक्र पर क्षमता विकास
- कर्मचारियों के प्रशिक्षण के साथ जीआईएस और एमआईएस की स्थापना व प्रशिक्षण 
- - पीएमयू कार्यालय स्थापन व उपकरणों/औजारों की खरीद
2) विस्तार सेवा क्रियाकलापों का सुदृढ़ीकरण
- विस्तार (आईईसी) सामग्री का प्रबंध  
- समुदाय प्रेरकों का क्षमता विकास
- अनुसंधान विस्तार - किसान संबंधों का सुदृढ़ीकरण
- शोधकर्ताओं और विस्तार कर्मचारियों का संयुक्त दौरा
3) आधारभूत सर्वेक्षण और परिणाम आलांकन
- बेसलाइन सर्वेक्षण जून (2012)
- मध्यावधि प्रभाव मूल्यांकन (सितम्बर 2015)
- सत्रीय प्रभाव आकलन (2018 जनवरी)
परामर्श सेवा योजना विस्तृत डिजाइन निविदा, निर्माण प्रबंधन, पर्यावरण विचार, वित्तीय प्रबंधन, निगरानी और मूल्यांकन, रिपोर्टिंग, आदि में सहयोग व परामर्श |